सिर्फ बर्फ बेचकर बना डाली करोड़ो की कंपनी! Defence Jobs, Sarkari Jobs

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn

[ad_1]

Dr Cubes Story: आज हमारे देश भारत में हर दिन नए Startup शुरू हो रहे हैं, जिसके कारण दूसरो को भी खुद का Startup शुरू करने की प्रेणना मिल रही हैं। Startups की दुनिया से आज हम आपके लिए एक ऐसी कहानी लेकर आए हैं जिसमे इस Startup फाउंडर ने लोगो को सिर्फ बर्फ बेचकर आज करोड़ो की कंपनी खड़ी कर दी हैं।

बिलकुल आपने सही पढ़ा, सिर्फ बर्फ बेचकर इस Startup फाउंडर ने एक करोड़ो की कंपनी आज बना दी हैं। आज हम बात कर रहे हैं Naveed Munshi और Pramod Tirlapur की जो आपस में दोस्त हैं और इन्होंने Dr Cubes कंपनी की साथ में शुरुवात की थी और आज ये कंपनी करोड़ो की बन चुकी हैं।

आज के इस लेख में आप Dr Cubes Story के बारे में पढ़ेंगे और जानेंगे कि कैसे इस कंपनी के founders ने सिर्फ बर्फ बेचकर करोड़ो की कंपनी बनाई हैं।

dr cubes story in hindi

Dr Cubes की इस तरह हुई शुरुवात

Dr Cubes Startup को साल 2017 में दो दोस्तो द्वारा शुरू किया गया था। इस Startup के दोनो फाउंडर्स का नाम हैं Naveed Munshi और Pramod Tirlapur। इस Startup को शुरू करना का आइडिया इनके दिमाग में तब आया जब इन्होंने Ice Cubes के बारे में सोचना शुरू किया।

इसका कारण ये हैं कि उस समय कोई भी कंपनी अच्छे और हाइजेनिक Ice Cube नही प्रदान करती थी, तो इन दोनो ने सोचा कि क्यों ना एक ऐसी कंपनी शुरू की जाए जिसमे हम लोगो को फ्रेश और हाइजीनिक Ice Cubes प्रदान करेंगे। बस इसी आइडिया से दोनो ने मिलकर Dr Cubes कंपनी को शुरू कर दिया, जिसमे इन्होंने Customers को फ्रेश और Hygenic बर्फ के टुकड़े डिलीवर करने शुरू कर दिए।

Dr Cubes अपने Customers को अलग अलग तरह के Ice Cubes प्रदान करती हैं, जिससे उनके Customers की हर तरह के Ice Cubes की जरूरत पूरी हो जाती हैं।

Shark Tank India में भी जाने का मिल चुका हैं मौका

आप सभी ने भारत में प्रसिद्ध Shark Tank India Show को जरूर देखा होगा, जिसमे नए Startup Founder अपने बिजनेस आइडिया की मदद से अपने Startup के लिए फंडिंग लेते होते हैं। आपको ये भी बता दें कि Ice Cubes कंपनी के फाउंडर्स को भी Shark Tank India Show में जाने का मौका मिल चुका हैं।

Shark Tank India Show पर पहुंचने के बाद Dr Cubes के फाउंडर ने सभी Sharks से अपने बिजनेस के लिए 80 लाख रुपए की फंडिंग मांगी थी, जिसके लिए इन्होने Sharks को अपनी कंपनी का 15% का हिस्सा ऑफर किया था।

पर सभी Sharks ने उन्हें इसके लिए मना कर दिया था क्योंकि सभी का कहना था कि ये अभी एक नया बिजनेस हैं और Startups world में जितनी भी बड़ी बड़ी कंपनिया हैं वो इसे आसानी से कॉपी करके आपको पीछे कर सकती हैं, यह कहते हुए सभी Sharks ने उन्हें फंडिंग देने से मना कर दिया था।

आज बन चुकी हैं एक करोड़ो की कंपनी

Shark Tank India शो में Dr Cubes के फाउंडर्स ने बताया कि उनके इस बिजनेस ने साल 2019 में 50 लाख रुपए का रेवेन्यू बनाया था जो कि साल 2020 में 1.2 करोड़ तक पहुंच गया था।

हालांकि कोरोना महामारी के दौरान इनके बिजनेस पर बहुत ज्यादा फर्क पड़ा था, पर फिर भी FY22 में इन्होंने 1.10 करोड़ रुपए का रेवेन्यू बना लिया था। आज साल 2023 में इनका लक्ष्य 2.5 करोड़ रुपए तक पहुंचने का हैं, साथ में Shark Tank पर फंडिंग ना मिलने के बावजूद इन्होंने अपना काम जारी रखा और आज ये कंपनी बहुत तेजी से आगे बढ़ते हुए जा रही हैं। साथ ही में आज Dr Cubes कंपनी की वैल्यूएशन करोड़ो में हैं।

Dr Cubes Story Overview

Article Title Dr Cubes Story
Startup Name Dr Cubes
Founder Naveed Munshi & Pramod Tirlapur
Homeplace India
Revenue (FY22) Approx. ₹1.10 Crore
Official Website https://drcubes.in/
Our Telegram Channel Link Click Here

हम आशा करते हैं कि इस लेख से आपको Dr Cubes Story की जानकारी मिल गई होगी, इस अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करें ताकि उन्हें भी Dr Cubes Story के बारे में जानकारी मिल सके। ऐसे ही ओर भी Startups की कहानी पढ़ने के लिए हमारे Business पेज पर जरूर जाएं।

आम पूछे जाने वाले प्रश्न: Dr Cubes Story

Dr Cubes के फाउंडर कौन हैं?

Dr Cubes को साल 2017 में दो दोस्तों ने मिलकर शुरू किया था और यही दो दोस्तों आज इस कंपनी के फाउंडर हैं, इनका नाम हैं – Naveed Munshi और Pramod Tirlapur.

Dr Cubes कंपनी की वैल्यूएशन कितनी हैं?

Dr Cubes Company की वैल्यूएशन लगभग 5.33 करोड़ रुपए की हैं।



[ad_2]

Source link

Rate this post

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Trending Results

Request For Post

Discover more from DefencelY

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading